Thursday, March 3, 2011

नम आँखों से कोई जब उदासी मुस्कुराती हैं


नम आँखों से कोई जब उदासी मुस्कुराती हैं 
जल जाते हैं ये लब ,रूह झुलस जाती है.. 

टूटते हैं तार इक इक  साँसों कि वीणा के  
कोई दूर कि हवा  जब सुर छेड़ जाती है ..

गुज़रता मैं नहीं हूँ उन गलियों से मगर 
बंद दरिचो से कोई ...सदा तो बुलाती है.. 

रक्खे थे तेरे पास जो पंख गिरवी कभी 
तेरी हि परवाज़ मुझे याद वो दिलाती है 

होने न दिया दर्द को रुसवा कभी मगर 
तन्हाई में अक्सर ही आँख भर आती है.. 

गिला कोई दिल को जब भी तुझसे हुआ 
चुन चुन खतायें मेरी , जिंदगी बताती है.. !!




13 comments:

  1. इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई ।

    ReplyDelete
  2. wah! saare sher, sabhi khayaal, behad umdaa, bohot khoobsurat hai....beautiful !!

    aap apni beher thooodi se improve kar sakti hai, jo is ghazal ko bohot bohot khoobsurat bana degi. zyaada nahin bolungi kyunki main khud beher mein mahir nahin hoon ;) lol

    par, rhythm zara si dhyaan mein rakhiye....aapse keh rahi hoon kyunki aap bohot accha likhti hai...and anything we do, can always get better

    take care.. :)

    ReplyDelete
  3. वंदना जी,

    हमेशा की तरह खूबसूरत ग़ज़ल लिखी है आपने, उर्दू के कुछ लफ़्ज़ों का इस्तेमाल बखूबी किया है.......खूबसुरत |

    आपके ब्लॉग पर ये मेरी आखिरी टिप्पणी.........खुदा हाफिज़|

    ReplyDelete
  4. 'होने न दिया दर्द को रुसवा कभी मगर

    तन्हाई में अक्सर ही आँख भर आती है '

    बहुत खूब .....उम्दा शेर

    ReplyDelete
  5. are u sure u r just 21....abhi se itna gehra likhti ho...aage kya hoga!!

    close to heart gazal :)

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत गजल प्रकाशित की है आपने!

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण रचना, बहुत पसंद आई बंदना जी

    ReplyDelete
  8. बहुत खूबसूरत गज़ल ..........

    ReplyDelete
  9. bahut bahut shukriyaa aap sahi ka sarahne k liye ..thanksss a lott :)

    ReplyDelete
  10. @ saanjh ..thankuu dear ..tumne ye kehna jaruri samjha ....main koshis kar rahi hoon sudharne ki par ho nahi pa rha hai yaar ...bahar ki samjh aa rhi hai dheere dheere ..to kosis karungi better ho aage se :)

    ReplyDelete
  11. @ saumyaa ..loved ur comment :D ..

    arree ye to original hai yaar ....jo mummy papa likhvaate hain school me 1 saal kam uske hisaab se main bees ki hoon ::(
    haan soch k hisaab se jaldi budhiya hoti ja rhi hoon iski fikr mujhe bi hai:(:(

    :P:D

    ReplyDelete
  12. Aha... fir nai gazal .neeche se teesra mera fav. hua...hamse to gazal nahi likhi jaati...Saanjh ka bhi blog dekha hai...bahut achchi gazal likhti hain... keep writing

    ReplyDelete
  13. Aapki urdu par pakad dikhayi padti hai. Lekhan mei dard ko kaafi acche se prastut kiya gya hai, Badhai!!

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...