Friday, February 25, 2011

त्रिवणी



मेरी जमीं .. मेरे हिस्से का जहान लेकर ,
एक मुट्ठी में चाँद ..एक में आसमान लेकर !


मुझे यकीं है जिंदगी इसतरह भी मिलेगी मुझसे !!

-वन्दना



6 comments:

  1. बिल्कुल जी अपने हिस्से की जमीन और आसमान सभी को मिलता है।

    ReplyDelete
  2. man ko chhoo gayi ,kuchh khas hai baat .badhiya

    ReplyDelete
  3. वाह क्या बात है ..बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब! दिल को छू गयी पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  5. Life, come to me slow!

    छोटे से तीन वाक्यों ने बहुत सुंदर विचार का पूरा व्याख्यान कर डाला!

    ReplyDelete

खुद को छोड़ आए कहाँ, कहाँ तलाश करते हैं,  रह रह के हम अपना ही पता याद करते हैं| खामोश सदाओं में घिरी है परछाई अपनी  भीड़ में  फैली...