Wednesday, March 3, 2010

त्रिवेणी


बिखरती साँसे ,छटपटाती रूह,इज्तराब ए रफ़्तार में बेइख्तियार दोड़ती धड़कने ..


तेरे तसव्वुर को सुलझाने में........हम खुद से उलझ बैठे है,,


शायद आज फिर एक गिरह नज्म बनके कागज पर उगेगी.

6 comments:

  1. तेरे तसव्वुर को सुलझाने में........हम खुद से उलझ बैठे है,\वाह बहुत खूब। शुभकामनायें और कागज़ पर क्या उतरेगा इस का इन्तज़ार रहेगा।

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. तेरे तसव्वुर को सुलझाने में........हम खुद से उलझ बैठे है,
    शायद आज फिर एक गिरह नज्म बनके कागज पर उगेगी.

    bahut khoob

    ReplyDelete
  4. too good....
    http://fervent-thoughts.blogspot.com

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...