Saturday, February 20, 2010

कोई अनदेखा अनजाना अक्सर ख्वाबो में आ जाता है.






बेख्याली में एक खूबसूरत सा ख्याल बनके आ जाता है
कोई अनदेखा अनजाना अक्सर ख्वाबो में आ जाता है..

मैं जाने क्यूं आईने में खुद से बिछड़ जाया करती हूँ
वो मेरी ....उलझी हुई.... लटें ........सुलझा जाता है

कभी मिलता है ..सपनो में किसी रम्ज -शिनाश कि तरह .
जाने..... किस तरह ..बिलखते दिल को... सैलाह जाता है

टूटता है जब जब कोई तारा फलक के जहाँ में
वो इबादत कि तरह दुआओं में आ जाता है ..

पलकों पे झिलमिलाता है यूँ तो आसमां के सितारों कि तरह ..
अक्सर तन्हा रातों में ..चाँद बनके आ जाता है ...

मेरी साँसों में भी बस्ता है कोई एहसास ए तरन्नुम कि तरह .
मुझे यकीं तब होता है जब गीत बनके वो लबो पे आ जाता है ..

महमां है... मेरी ..बज्म ए तन्हाई का....... वो
पाकर मुझे तन्हा पलकों में अश्क बनके छलक जाता है

यकीं मानों कोशिशे लाख किया करती हूँ मैं छुपाने कि
मगर ए लेखनी तेरे दम से हर राज जुबाँ पे आ जाता है ...

हाँ इतनी सी शरारत मैं ए गजल तेरे साथ कर ही लिया करती हूँ
गढ़ती हूँ अफसाना सब्दो से खेलके कुछ है के जो दिल में रह जाता है..

5 comments:

  1. hats off dear....i too share similar feelings....

    ReplyDelete
  2. wow.....Ultimate superb ...Fantabulous......aur words and hai.....gazab kar diya dear

    ReplyDelete
  3. महमां है... मेरी ..बज्म ए तन्हाई का....... वो
    पाकर मुझे तन्हा पलकों में अश्क बनके छलक जाता है

    तन्हाई में अश्क भी साथ देते हैं ... की तो है जो साथ रहता है ... अच्छा लिखा .....

    ReplyDelete
  4. तुझसे जुस्तजू कोई हम हरगिज ना करते
    तुझे ए शितमगर जो हम पहचान जाते..

    bahut badhia likha hai.

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...