Wednesday, February 10, 2010

गजल




अजनबी एहसासों को भी दिल में जगह देनी पड़ती है ..
गजल को .....तुकबंदी से...... सवांरा नहीं जाता .

ये अल्ल्हड़ सी नादाँ लहरें हर बार आकर लोट जाती है
संजीदगी देखिये मूह फेरकर कभी किनारा नहीं जाता

एक रोज देखी थी फलक के चाँद कि तबस्सुम
पलकों के सायें से.. वो...... नजारा नहीं जाता ...

देख बैठे ख्वाबो कि दुनिया हकीकत कि नजरो से
आज तलक इन आँखों से उस चेहरे का लश्कारा नहीं जाता

जिनकी सदाए भी ख़ामोशी ओढ़ पहन कर निकलती है
उन्हें नाम लेकर यूँ ..कभी... पुकारा नहीं जाता ..

ये वो बुलंदी है जहां वापसी कि सीढ़ी नहीं होती
पलकों पे रहने वालो को गिरा ही सकते है ...उतारा नहीं जाता

ए कलम तू सहेली है मेरी ..कुछ तेरे मेरे बीच रहने दे
यूँ हर बात को कागज पर.... उकारा नहीं जाता ..

कभी कोई बात इस दिल कि भी माना करो "वंदु"
यूँ हर बात पर दिल को ......नकारा नहीं जाता ...


7 comments:

  1. Ab kya kahun is par main yaar....itni solid nazm hai ki bas.

    Saare sher bahut acche hain par ye do to mere fav hain..... :)

    ये अल्ल्हड़ सी नादाँ लहरें हर बार आकर लोट जाती है
    संजीदगी देखिये मूह फेरकर कभी किनारा नहीं जाता

    ये वो बुलंदी है जहां वापसी कि सीढ़ी नहीं होती
    पलकों पे रहने वालो को गिरा ही सकते है ...उतारा नहीं जाता

    ReplyDelete
  2. wah "vandu" ji ,

    ए कलम तू सहेली है मेरी ..कुछ तेरे मेरे बीच रहने दे
    यूँ हर बात को कागज पर.... उकारा नहीं जाता ..

    bahut khoob.

    ReplyDelete
  3. thanks a lot neer..:)

    thanku soo much swapan sir ..:)

    ReplyDelete
  4. एक रोज देखी थी फलक के चाँद कि तबस्सुम
    पलकों के सायें से.. वो...... नजारा नहीं जाता ...

    kya baat hai ... bahut hi lajawaab sher hai ... poori gazal khoobsoorat sheron se bani hai ...

    ReplyDelete
  5. ए कलम तू सहेली है मेरी ..कुछ तेरे मेरे बीच रहने दे
    यूँ हर बात को कागज पर.... उकारा नहीं जाता ..

    bahut khub.

    ReplyDelete
  6. wow...ek ke baad ek post ......bahoot khoob....aise apni kalam ke dhaar badhati raho

    ReplyDelete
  7. loved the last verse too much.......superb penning...:)

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...