Friday, June 19, 2009

अजीब सी बात

अक्सर जब ख़ुद पर हस्ती हूँ तो आँख भर आती है ,
लोग मेरे चेहरे की खिलखिलाहट ढूंढते है

जब कभी ख़ुद से शिकायत होती है
तो मेरी पलके सिसकते हुए दिल का साथ नही देती ,
और आँखे बेहया सी खामोश रह जाती है**


जब पापा मेरी नादानियों को हंसकर भुला देते है यूँ ही
तो जाने क्यूं वो छोटी गलतिया भी गुनाह बन जाती है,

अपना ही स्वामित्व सजाये देता है
दिल
के कानून से दफाये लग जाती है,

और जब गुस्से में बडबडाती हुई माँ.. डाट देती है
तो दफाये सब हट जाती है और सजाये माफ़ हो जाती है **


पापा के शख्त प्यार में ..कठोर व्यवहार में..,
अटूट विश्वास में.. ,आशा भरी आंखों के स्नेह अपार में ..

माँ के दुलार में ...सच्चे संस्कार में..,
गुस्से में बहने वाली एक निर्मल सी धार में .. झूठी फटकार में ..

.
...जब जब ख़ुद को परखती हूँ, तो जिन्दगी निखरती जाती है
निखरती जाती है निखरती जाती है **





9 comments:

  1. sunder at sunder


    पापा के शख्त प्यार में ..कठोर व्यवहार में..,
    अटूट विश्वास में.. ,आशा भरी आंखों के स्नेह अपार में ..

    माँ के दुलार में ...सच्चे संस्कार में..,
    गुस्से में बहने वाली एक निर्मल सी धार में .. झूठी फटकार में ..

    ....जब जब ख़ुद को परखती हूँ, तो जिन्दगी निखरती जाती है
    निखरती जाती है निखरती जाती है **


    sachchi aur sunder panktiyan.

    ReplyDelete
  2. पापा के शख्त प्यार में ..कठोर व्यवहार में..,
    अटूट विश्वास में.. ,आशा भरी आंखों के स्नेह अपार में ..

    माँ के दुलार में ...सच्चे संस्कार में..,
    गुस्से में बहने वाली एक निर्मल सी धार में .. झूठी फटकार में ..

    Waaaaahhhh,,.....parents ki daant aur pyaar mein alag hi maza hai.

    Poori nazm bahut hi behtareen hai. Tooo gooood.... :)

    ReplyDelete
  3. nice thoughts...well felt composition...

    ReplyDelete
  4. Ye jo ajeeb si baat hain na Vandana.... bes yahi to khoobsoorat hain zindgi mein.... bahut baar galti karke sochte hain ki daant padni chaiye but nahi padti....... tab khamoshi chubhti hain bahut....lagta hain bahut pyaar se likhi hain ye rachna ..... behad khoobsoorat

    "पापा के शख्त प्यार में ..कठोर व्यवहार में..,
    अटूट विश्वास में.. ,आशा भरी आंखों के स्नेह अपार में ..

    माँ के दुलार में ...सच्चे संस्कार में..,
    गुस्से में बहने वाली एक निर्मल सी धार में .. झूठी फटकार में ..

    ....जब जब ख़ुद को परखती हूँ, तो जिन्दगी निखरती जाती है
    निखरती जाती है निखरती जाती है"

    ReplyDelete
  5. वंदना, वाह-वाह!
    जब पापा मेरी नादानियों को हंसकर भुला देते है यूँ ही
    तो जाने क्यूं वो छोटी गलतिया भी गुनाह बन जाती है,

    बहुत प्यारा है आपका अहसास...निर्दोष दोषी लगती हैं...

    ReplyDelete
  6. bahut bahut shukrya aap sab ka saharne ke liye .....thanks lot

    ReplyDelete
  7. Bahut achchhi rachna hai sneh dular se pagi hui.
    Navnit Nirav

    ReplyDelete
  8. वंदना
    ' जब खुद को परखती हूँ तो निखरती जाती हूँ " इतनी छोटी सी उम्र में यदि ऐसी सोच रखती हैं तो समझो जिंदगी सचमुच निखर जायेगी | बेहद सुंदर अभिव्यक्ति वाली कवितायें | मेरी बधाई स्वीकार करें |

    ReplyDelete
  9. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति!! बधाई.

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...