Monday, April 13, 2009

परिचय

बुजुर्ग लायें है दिलो के दरिया से मोह्हबत की कश्ती निकालकर, हम भी मल्लाह उसी सिलसिले के है

2 comments:

  1. most welcome Vandana! "बुजुर्ग लायें है दिलो के दरिया से मोह्हबत की कश्ती निकालकर, हम भी मल्लाह उसी सिलसिले के है " bahut khoob.. Hope jaldi hi kuch naya milega

    ReplyDelete
  2. Pahli hi line kamaal ki hai....Welcome and Good Luck

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...