Saturday, January 7, 2012

त्रिवेणी



वक्त के पाँव में बेडियाँ  हमसे  डाली नहीं गयीं
अनमोल थी इनायते मगर  संभाली  नहीं  गयीं

जिंदगी सिखाती कम है इम्तिहान ज्यादा लेती है !


- वंदना 

4 comments:

  1. जिसे हम ही पास करते हैं..

    ReplyDelete
  2. बहुत सही कहा...

    ReplyDelete
  3. बेहद खूबस्रूरत ! पूरई गज़ल का इंतज़ार है !

    ReplyDelete
  4. वाह बेहतरीन त्रिवेणी..

    ReplyDelete

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...