Monday, April 13, 2009

परिचय

बुजुर्ग लायें है दिलो के दरिया से मोह्हबत की कश्ती निकालकर, हम भी मल्लाह उसी सिलसिले के है

गीत

नयन हँसें और दर्पण रोए  देख सखी वीराने में  पागलपन अब हार गया खुद को कुछ समझाने में  -- काली घटायें  घुट घुट जाएँ  खार...